MAJDOOR

औरेया हादसें के बाद सख्ती में योगी सरकार, यूपी में पैदल और अवैध गाड़ियों के ना आने का निर्देश

उत्तरप्रदेश में प्रवासी मजदूरों के साथ लगातार हो रहे हादसों पर योगी सरकार नें सख्ती बरती है. यूपी में हो रहे हादसे के इसी क्रम में शनिवार को हुए औरेया हादसे के बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मजदूरों के पलायन पर स्पष्ट निर्देश दिए हैं. सीएम योगी ने साफ तौर पर कहा कि उत्तर प्रदेश की सीमा में अब प्रवासी मजदूर अवैध वाहनों से, बाइक, ट्रक आदि असुरक्षित वाहनों से या पैदल चलकर नहीं आ सकेंगे. साथ ही वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों को जारी इस आदेश में स्पष्ट तौर पर कहा कि अगर ऐसा होता है तो लोगों को ला रही अवैध गाड़ियों को तत्काल जब्त करते हुए कानूनी कार्रवाई की जाए.

इसके अलावा सीएम योगी ने शनिवार को एक उच्च स्तरीय बैठक में लॉकडाउन व्यवस्था की समीक्षा की. जिसमें उन्होंने इन निर्देशों का कड़ाई से पालन सुनिश्चित कराने के निर्देश दिए. इसके अलावा उन्होंने यह भी कहा है कि पुलिस पैदल चलने वालों को जागरूक करते हुए उन्हें रोके. साथ ही उन्होंने कहा कि प्रदेश की सीमा में प्रवेश करते ही प्रवासी कामगारों या श्रमिकों को भोजन और पानी उपलब्ध कराया जा. इसके बाद उनकी स्क्रीनिंग करते हुए उन्हें सुरक्षित और सम्मानजनक ढंग से उनके गंतव्य तक पहुंचाया जाए. साथ ही सीएम योगी ने प्रवासी मजदूरों को पैदल या किसी निजी वाहन से वापस न आने की अपील की साथ ही कहा कि ऐसा करके वे स्वयं और अपने परिवार को जोखिम में डालकर पैदल अथवा अवैध और असुरक्षित वाहन से घर के लिए यात्रा न करें. उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार अपने सभी प्रवासी कामगारों या श्रमिकों की सुरक्षित और सम्मानजनक वापसी के लिए युद्ध स्तर पर व्यवस्था सुनिश्चित कराने की कोशिश कर रही है.

सीएम योगी ने भरोसा दिलाया कि राज्य सरकार प्रवासी श्रमिकों या कामगारों को ट्रेन से प्रदेश में निःशुल्क ला रही है. इसके अलावा हर गांव में एक अल्ट्रारेड थर्मामीटर की उपलब्धता सुनिश्चित कराई जाएगी. साथ ही जांच क्षमता को इस सप्ताह तक बढ़ाकर 10,000 जांच प्रतिदिन किया जाए और जांच क्षमता बढ़ाने के लिए पूल टेस्टिंग को अपनाया जाए. उन्होंने यह निर्देश भी दिए कि वेंटिलेटर के सुचारू संचालन के लिए प्रत्येक जनपद में प्रशिक्षित चिकित्सक और पैरामेडिक्स की उपलब्धता अवश्य हो. सीएम योगी ने कोविड अस्पतालों में एक लाख बेड तैयार करने के निर्देश दिए. उन्होंने कहा कि कोविड-19 से उत्पन्न परिस्थितियों से निपटने और देश को आत्मनिर्भर बनाने के उद्देश्य से प्रधानमंत्री मोदी द्वारा 20 लाख करोड़ रुपए का विशेष आर्थिक पैकेज घोषित किया गया है. सीएम सोगी ने अधिकारियों को निर्देश देते हुए कहा कि सभी संबंधित विभाग पैकेज के प्रावधानों का अध्ययन करते हुए कार्य योजना तैयार किया जाए, ताकि प्रदेश को विशेष आर्थिक पैकेज का पूरा लाभ मिल सकें.

अबतक प्रदेश में देश के अन्य राज्यों से प्रवासी श्रमिकों और कामगारों को लेकर 449 ट्रेनें आ चुकी हैं. इसके अलावा अबतक 15 लाख से अधिक कामगार राज्य में पहुंच चुके हैं. अपर मुख्य सचिव अवनीश कुमार अवस्थी ने बताया, ‘अब तक प्रदेश में 449 ट्रेनें आ चुकी हैं. साथ ही प्रवासियों के लिए हर बॉर्डर पर 200 बसें बॉर्डर के जिलों में व्यवस्थित की गई हैं.’ इन ट्रेनों से 5 लाख 64 हजार लोग यात्रा कर चुके हैं. उन्होंने बताया कि शनिवार को 75 ट्रेनें प्रदेश में आनी हैं, और 286 और ट्रेनों के संचालन को सहमति दी गई है. अवनीश अवस्थी ने आगे कहा कि ‘अगर पूरी संख्या जोड़ी जाए तो लगभग 9 लाख 50 हाजर लोगों को या तो लाया जा चुका है, या लाने वाले हैं.’ उन्होंने बताया कि दूसरें प्रदेशों से यूपी की सीमा में पैदल, दो पहिया वाहन और ट्रक के जरिए किसी भी प्रवासी व्यक्ति आने की अब इजाजत नहीं दी जाएगी.

अवनीश अवस्थी ने बताया कि लगभग साढ़े नौ लाख श्रमिक एवं कामगार या तो प्रदेश में आ चुके हैं या फिर उनके लाने की व्यवस्था हो चुकी है. उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने औरैया में हुए हादसे पर गंभीर संवेदना व्यक्त करते हुए सभी वरिष्ठ अधिकारियों को निर्देश दिए कि प्रवासी श्रमिकों को पैदल ना आने दिया जाए और ना ही उन्हें अवैध और असुरक्षित वाहनों से यात्रा करने दिया जाए. उन्होंने बताया कि लॉकडाउन का उल्लंघन करने के लिए एक लाख 34 हजार लोगों पर नामजद 47, 289 प्राथमिकी दर्ज की गई हैं. साथ ही कुल 41 हजार वाहन सीज किए गए हैं और 18.5 करोड़ रुपये जुर्माना वसूला गया है.

अपर मुख्य सचिव ने निर्देश दिए हैं कि कोरोना की रोकथाम, उपचार और इससे बचाव में लगे हुए सभी कर्मियों को ड्यूटी के दौरान मास्क पहनना अनिवार्य होगा. हर सार्वजनिक स्थल पर हैंड सैनिटाइजर की व्यवस्था कराई जाए. इसके अलावा नोडल अधिकारी को समय-समय पर सभी व्यवस्थाओं का विशेष रूप से ध्यान रखनें का निर्देश दिया.

अवनिश अवस्थी ने बताया कि सभी स्टेट, नेशनल हाईवे और जनपदों के एंट्री और एग्जिट पॉइंट पर बनेंगे पिक एंड ड्राप पॉइंट बनाए जाएंगे.

साथ ही अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश अवस्थी ने निर्देश दिए कि मजदूरों व श्रमिकों को उनके घर छोड़कर वापस आने वाली बसें अब खाली नही लौटेंगी बल्कि वापस लौटते समय अपने रुट पर पैदल चलने वाले मजदूरों श्रमिकों को बैठाकर उनके गंतव्य के निकटतम पिक एंड ड्राप पॉइंट पर छोड़ेंगी. इसके अलावा सभी पिक एंड ड्राप पॉइंट पर पुलिस और स्वास्थ्य विभाग की टीम ऐसे लोगों का परीक्षण कराकर क्वारन्टीन होम भेजेंगी. ये सभी निर्देश कमिश्नर, पुलिस कमिश्नर, डीएम, एसएसपी, परिवहन निगम के अधिकारियों को दिए गए.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *