आतंकवाद का कोई राष्ट्र नहीं: सिद्धू

श्रीनगर: जम्मू एवं कश्मीर के पुलवामा में आंतकी हमले से पूरे देश में आक्रोश और शोक का माहौल है। पूरे देश में पाकिस्तान की इस कायरतापूर्ण हरकत की कड़ी निंदा की जा रही है। इस आत्मघाती हमले में 40 से अधिक जवान शहीद हुए हैं, जबकि इतने ही ज़ख़्मी हैं।

भारत सरकार ने पाकिस्तान को लेकर सख्त रवैया अपनाते हुए उससे “मोस्ट फेवर्ड नेशन” का दर्जा छीन लिया है। अपने जवानों की शहादत पर सीआरपीएफ की तरफ से भी बयान आया है कि ना तो वो इस हमले को कभी भूलेंगे और ना ही इस हमले को अंजाम देने वाले आतंकियों को माफ करेंगे। आतंकियों की इस कायराना हरकत से जहां पूरा देश गुस्से में है वहीं पंजाब के मंत्री और कांग्रेस नेता नवजोत सिंह सिद्धू ने भी हमले को लेकर बड़ा बयान दिया ।

पुलवामा आतंकी हमले को लेकर मीडिया से बात करते हुए पंजाब के मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू ने कहा, ‘यह घटना बेहद निंदनीय है, यह एक कायरतापूर्ण कार्य है। बातचीत के जरिए इस समस्या का एक स्थाई समाधान निकाले जाने की जरूरत है, कब तक हमारे जवान अपनी जान कुर्बान करेंगे? कब तक यह रक्तपात जारी रहेगा? ऐसा करने वाले लोगों को सजा जरूर मिलनी चाहिए।’ 

वहीं, इस आतंकी हमले में पाकिस्तान की भूमिका को लेकर सवाल पूछे जाने पर सिद्धू ने कहा, ‘आतंकवाद का कोई देश नहीं होता और ना ही आतंकियों का कोई मजहब होता है, उनकी कोई जाति नहीं होती।’ हमले के बाद करतारपुर कॉरिडोर पर असर पड़ने के सवाल पर सिद्धू ने कोई जवाब नहीं दिया।

सिद्धू की माने तो पाकिस्तान की कोई गलती नही है। उन्होने सीधे तौर पर पाकिस्तान को क्लान चीट दे दी। सिद्धू के इस बयान के बाद से आलोचना हो रही है।सिद्धू को सोशल मीडिया पर आड़े-हाथ लिया जा रहा है। पूरे देश में गुस्से का माहौल है, वहाँ सिद्धू सदन में शातिं से बातचीत करने की बात कर रहे हैं।

इससे पहले भी नवजोत सिंह सिद्धू पाकिस्तान को लेकर अपने रुख के कारण निशाने पर रहे थे। वह राष्ट्रपति इमरान खान के शपथग्रहण समारोह में गए थे ओर वहां उन्होने पाकिस्‍तान के आर्मी चीफ कमर जावेद बाजवा को गले लगाया था। इसके बाद पंजाब की राजनीति में तूफान मच गया था।

पब्लिक व्यू डेस्क

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *