बीजेपी से निलंबित सांसद कीर्ति झा आजाद ने थामा कांग्रेस का हाथ

बीजेपी से निलंबित सांसद कीर्ति झा आजाद ने अब कांग्रेस के साथ हाथ मिला लिया है. बिहार के दरभंगा से सांसद कीर्ति ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी कि मौजूदगी में कांग्रेस पार्टी मे शामिल हुए. इस दौरान उन्होंने कांग्रेस में शामिल होने पर कहा कि, उन्होंने जनता के आदेश पर यह फैसला लिया है.

अपने बीजेपी से निलंबन पर बोलते हुए कीर्ति झा ने कहा, “मुझे एक साजिश के तहत बिना किसी अपराध के पार्टी से सस्पेंड कराया गया. इसके साथ ही उन्होंने कहा कि, पिछले 10 महीनों से मैंने अलग-अलग गांव जाकर लोगों से बात करके उनकी सलाह ली, साथ ही अपनी बात रखी. कांग्रेस में जाने का फैसला मैंने लोगों के कहने पर लिया.”

सस्पेंड करने का यह था कारण

सस्पेंड करने का कारण दरअसल यह था कि कीर्ति आजाद लगातार वित्त मंत्री अरुण जेटली पर भ्रष्टाचार के आरोप लगा रहे थे. जिसके कारण आखिर में बीजेपी को उन्हें सस्पेंड करना पड़ा. बता दें कि, कीर्ति आजाद लगातार अरुण जेटली को डीडीसीए में हुए घोटालें का जिम्मेदार ठहराते रहे है.

कीर्ति आजाद एक क्रिकेटर भी रह चुके है. 1983 के वल्र्ड कप जीतने वाली भारतीय टीम का हिस्सा रह चुके हैं. क्रिकेटर रह चुके कीर्ति आजाद ने अपना चुनावी करियर बीजेपी से शुरु किया. इसके साथ ही बाजेपी से वे तीन बार सांसद रह चुके हैं. साथ ही दिल्ली के गोल मार्केट से वे विधायक चुने जा चुके हैं. आपको यह भी बता दे कि कीर्ति झा बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री भागवत झा आजाद के बेटे हैं. भागवत झा आजाद कांग्रेस के दिग्गज नेताओं मे से रह चुके हैं.

यह भी पढ़ें: प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी देगें बिहार को परियोजनाओं के लिए 33,000 करोड़ रुपये

किस सीट से लड़ेंगे लोकसभा चुनाव?

कांग्रेस में कीर्ति आजाद के जाने के साथ-साथ एक और सवाल खड़ा हो गया है कि क्या कांग्रेस उन्हें दरभंगा से ही लोकसभा चुनाव में उतारेगी? 2014 के चुनाव में कीर्ति आजाद दरभंगा से लोकसभा चुनाव में जीत चुके है. इसके साथ ही वे 1999 और 2009 में भी दरभंगा से लोकसभा चुनाव में चुनकर ही संसद पहुंचने में सफल रहे हैं. लेकिन इस बार बिहार में कांग्रेस आरजेडी के साथ गठबंधन में चुनाव लड़ रही है. इसके साथ ही इस महागठबंधन में विकासशील इंसान पार्टी (वीआईपी) की भी एंट्री हो चुकी है.

सन ऑफ मल्लाह के नाम से मशहूर मुकेश सहनी ने पहले ही वीआईपी पार्टी से दरभंगा सीट से लड़ने का ऐलान कर दिया है. ऐसे में देखने वाली बात यह होगी कि क्या आरजेडी इस सीट को कीर्ति आजाद के लिए छोड़ेगी और नही तो क्या मुकेश साहनी को पीछे हटना पड़ेगा? ऐसे में कीर्ति आजाद को किसी ओर सीट से भी चुनाव लड़ना पड़ सकता है. 

पब्लिक व्यू डेस्क

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *