31वें दिन में दाख़िल हुआ CAA, NRC के खिलाफ जामिया का आंदोलन

कड़ाके की ठंड के बीच जामिया मिल्लिया इस्लामिया में CAA, NRC के विरुद्ध चल रहा प्रदर्शन अपने 31वें  दिन में प्रवेश कर चूका है. शनिवार को भी प्रदर्शन स्थल पर बहुत से छात्र नेता और सामाजिक कार्यकर्ता उपस्थित रहे. शनिवार के प्रदर्शन में मशहूर लेखिका और सामाजिक कार्यकर्ता अरुंधति रॉय भी शामिल हुईं.

अरुंधति रॉय ने छात्रों और आम नागरिकों से कहा कि आज हम दबाए गए हैं एक दिन आएगा जब हम राज करेंगे और ये लोग सड़क पर होंगे. उन्होंने इतना कहकर कई इंकलाबी नारे लगाए. उन्होने प्रदर्शन सभा में बोलने के बाद जामिया के स्टूडेंट्स के साथ जामिया प्रदर्शन में लगाई गयी प्रदर्शनी भी देखी और फिर जामिया की लाइब्ररी भी पहुंची जहां 15 दिसंबर को पुलिस ने छात्रों पर बर्बरतापूर्ण कार्यवाही की थी.

जामिया में प्रोफेसर और सेंटर फॉर पीस एंड कॉन्फ्लिक्ट की डायरेक्टर रही राधा कुमार ने कहा कि देश का नागरिक पांच साल से इस देश विरोधी सत्ता से लड़ लड़ कर निराश सा हो गया था. लेकिन जामिया के संघर्ष ने देश के नागरिक की असल लड़ाई को फिर से हरारत बख़्शी है. इसके लिए पूरा देश जामिया का शुक्रगुजार रहेगा.

एसआईओ ऑफ इंडिया के राष्ट्रीय अध्यक्ष लबीद शाफ़ी ने कहा की जब सरकार ने बिल पास किया तो हम विरोध कर रहे थे, जब यह अधिनियम बन गया तब भी हम इसका विरोध कर रहे थे और अब जब उन्होंने अधिसूचना जारी की है तब भी हम इसका विरोध कर रहे हैं और हम इसका विरोध जारी रखेंगे. वे लोग वैचारिक बहस के मैदान में हमसे हार गए हैं इसीलिए अब वे हिंसा कर रहे हैं हमें धमकियाँ दे रहे हैं लेकिन हमारी लड़ाई को इन धमकियों से फर्क नहीं पड़ना चाहिए.

जमात ए इस्लामी हिन्द के राष्ट्रीय सचिव मुहिउद्दीन गाज़ी ने कहा की जामिया, जेएनयू और जवानी ये तीनों मिलते जुलते शब्द हैं और जवानी का मतलब क्या होता है ये जामिया के तल्बा ने बता दिया है. आज जिस सड़क पर हम खड़े हुए है यहीं से पूरी क्रांति की शुरुआत हुई. असल लड़ाई आज देश का छात्र लड़ रहा है और हम सब चाहते है ये लड़ाई तब तक.

जामिया कोऑर्डिनेशन कमेटी (JCC) व एल्युमनी एसोसियेशन (AAJMI ) के सदस्यों ने बताया कि इस काले कानून के वापस लिए जाने तक ये विरोध प्रदर्शन जारी रहेगा और इसमे हमें समाज के सभी वर्गों का सहयोग मिल रहा है.

पब्लिक व्यू डेस्क

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *