भारतीय वायुसेना ने पाकिस्तान के बालाकोट में 350 आतंकी मारे | Publick View

भारतीय वायुसेना ने पाकिस्तान के बालाकोट में 350 आतंकी मारे

Indian Air Force Surgical Strike

हमले में 350 आतंकी मारे गए

नई दिल्ली:  पुलवामा हमले के बाद से भारत ने कड़ा रुख अपनाते हुए पाकिस्तान को अलग करने की रणनीती अपनाते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने कहा था ये नया भारत है पड़ोसी को इसके लिए भारी कीमत चुकानी पड़ेगी. भारतीय वायुसेना ने आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के खिलाफ कार्रवाई करता हुए पाकिस्तान के आंतका कैम्पबालाकोट, मुजफ्फराबाद और चकोटी को नस्तनाबूत कर दिया. इस हमले में 350 आतंकी मारे गए हैं.

भारतीय वायुसेना  ने 3:45 बजे मिराज-2000 लड़ाकू विमानों ने पाक की सीमा में हमला किया 12 मिराज विमानों ने कुल 1000 किलो भार वाले लेजर गाइडेड6 बम गिरा. इनमें 25 ट्रेनर थे. भारत ने पूरी कार्रवाई को सिर्फ 21 मिनट में अंजाम दिया.हमले वाली जगह एलओसी से करीब 50 किलोमीटर दूर है. भारतीय सेना ने 48 साल बाद पाकिस्तान के ठिकानों पर बम बरसाए है. 14 फरवरी को पुलवामा आतंमघाती हमले में सीआरपीएफ के 40 जवान शहीद हुए थे. जैश-ए-मोहम्मद ने इसकी जिम्मेदारी ली थी.

  • भारतीय वायुसेना ने मंगलवार तड़के 3:45 से 4:05 बजे के बीच कार्रवाई की.
  • पाकिस्तान ने भी माना- उसके क्षेत्र में दिखे थे भारत के विमान.
  • भारत ने कहा- जैश देश में फिर आतंमघाती हमलों की तैयारी में था, इसलिए कार्रवाई जरूरी थी.
  • बालाकोट में भारत ने जिस आतंकी कैम्प पर हमला किया, उसे कंधार विमान हाईजैक में शामिल रहा यूसुफ अजहर चलाता था.

विदेश सचिव विजय गोखले ने हमले की पुष्टि की

हमले के बाद भारतीय विदेश सचिव विजय गोखले ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर हमले की पुष्टि की. उन्होंने बताया, ‘जैश-ए-मोहम्मद ने पुलवामा में हमला किया था. इसमें हमारे 40 जवान शहीद हुए थे. पिछले दो दशक से जैश पाकिस्तान में सक्रिय है. इसका सरगना मसूद अजहर है. वह पाकिस्तान के बहावलपुर में रहता है. भारतीय संसद पर 2001 में और 2016 में पठानकोट एयरबेस पर हमले में इसी आतंकी संगठन का हाथ रहा है. हमने समय-समय पर पाकिस्तान को इसकी जानकारी दी, लेकिन उसने हर बार इनकार किया. उसने आतंकियों के ठिकाने खत्म करने के लिए कोई ठोस कदम नहीं उठाए.’

हमले में जैश के आला कमांडर्स मारे गए

उन्होंने बताया, ‘हमले में जैश के आला कमांडर्स और कई आतंकी मारे गए. मसूद के रिश्तेदार समेत कई आतंकी इसमें मारे गए. इन कैम्प्स को मसूद अजहर का साला यूसुफ अजहर चलाता था.’ बाद में विजय गोखले ने अमेरिका, ब्रिटेन, रूस, ऑस्ट्रेलिया, इंडोनेशिया, तुर्की और चीन समेत पांच एशियाई देशों के राजनयिकों को बुलाकर हवाई हमले की जानकारी दी.

पीओके के मुजफ्फराबाद और चकोटी में भी बमबारी 

वायुसेना के सूत्रों ने बताया कि बालाकोट के अलावा एलओसी के पार पीओके के मुजफ्फराबाद और चकोटी इलाके में भी बमबारी की गई.सैन्य सूत्रों ने बताया,इस मिशन के दौरान बैकअप के लिए 16 सुखोई-30 विमान भी तैनात किए गए थे. पूरे ऑपरेशन की निगरानी अवाक्स विमान से हो रही थी. जैश का कंट्रोल रूम अल्फा-3 उड़ा दिया गया.

यूसुफ अजहर इंटरपोल की मोस्ट वॉन्टेड लिस्ट में था 

सूत्रों के मुताबिक,  ‘बालाकोट में जहां हमला हुआ वहां 200 से ज्यादा एके राइफल्स, बेहिसाब हैंड ग्रैनेड, डेटोनेटर और विस्फोटक जमा करके रखा गया था. वायुसेना ने मसूद के जिस साले यूसुफ अजहर को निशाना बनाया वह इंटरपोल की मोस्ट वॉन्टेड लिस्ट में था. हमले में मसूद अजहर के भाई तलहा सैफ,कश्मीर में आतंकी कार्रवाइयों में शामिल रहे अम्मार, अजहर खान कश्मीरी और 1999 में आईसी-814 विमान के हाईजैक में शामिल रहे मसूद अजहर के बड़े भाई इब्राहिम अजहर को भी निशाना बनाया गया.’

वायुसेना हाईअलर्ट पर

हमले के बाद से भारतीय वायुसेना हाईअलर्ट पर है. पश्चिमी सीमा पर एयरफोर्स के फाइटर्स कॉम्बैट पेट्रोलिंग कर रहे हैं. यह पाक के जवाबी हमले की स्थिति में विमानों को भारतीय सीमा में घुसते ही उड़ा देने की क्षमता रखते हैं. पाक से सटी पश्चिमी सीमा पर जामनगर, उत्तरलाई, जैसलमेर, जोधपुर, फलौदी, नाल सहित पंजाब के सभी एयरबेस पर सुरक्षा व्यवस्था बढ़ा दी गई है. उत्तरप्रदेश सरकार ने भी एयरफोर्स के कैम्पों की सुरक्षा बढ़ाए जाने के साथ पूरे राज्य में अलर्ट जारी किया. कुंभ में विशेष सतर्कता बरतने की हिदायत दी गई है.

वायुसेना की कार्रवाई की सभी दलों ने तारीफ की

हमले के बाद विदेश मंत्री सुंषमा स्वराज ने 5:30 बजे सर्वदलीय बैठक बुलाई. उन्होंने कहा, ‘मैं खुश हूं कि सभी पार्टियों ने एक स्वर में वायुसेना की कार्रवाई की तारीफ की. सभी ने आतंक के खिलाफ सरकार के एक्शन का समर्थन किया.’

बैठक के बाद कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद ने कहा, ‘हम वायुसेना की कार्रवाई की तारीफ करते हैं. आतंक को खत्म करने के लिए सेनाओं को हमारा समर्थन है. यह ऑपरेशन आतंकियों और उनके कैम्पों को निशाना बनाने के लिए हुआ.’

केंद्रीय प्रकाश जावड़ेकर ने कहा, ‘नरेंद्र मोदी ने सेना को पूरी छूट दी थी। वायुसेना ने जबरदस्त पराक्रम किया है, उसके लिए उन्हें बहुत बधाई।

जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री और नेशनल कॉन्फ्रेंस के नेता उमर अब्दुल्ला ने भारत की कार्रवाई पर कहा, ‘अगर यह बात सच है तो यह छोटा हमला नहीं है. यह हमारी उम्मीद से परे है.’

भारतीय सेना ने 1971 की जंग में सीमा पार की थी और पाकिस्तान के ठिकानों पर बम बरसाए थे.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *