India China Face off

भारत-चीन विवाद: कांग्रेस ने केंद्र सरकार को घेरा, मनीष तिवारी और अधीर रंजन ने ट्वीट कर उठाए सवाल

लद्दाख की गलवान घाटी में भारतीय और चीनी सैनिक के बीच हिंसक झड़प की हुई हैं. सेना के मुताबिक, इस झड़प में भारत का एक अधिकारी और दो जवान शहीद हो गए है. स्थिति को शांत करने के लिए घटनास्थल पर दोनों देशों के बीच सैन्य अधिकारियों की बैठक जारी है.

इसी बीच घटना के बाद सोशल मीडिया पर तमाम तरह की प्रतिक्रियाएं सामने आ रही हैं. साथ ही कांग्रेस ने केंद्रपर सवाल उठाने शुरु कर दिए है.

कांग्रेस के सांसद मनीष तिवारी ने ऐडीजीपी से सवाल करते हुए कहा, “यह बहुत अजीब है. इस संवेदनशील मुद्दे पर आधिकारिक बयान में 16 मिनट में संशोधन की आवश्यकता की जरूरत पड़ गई. AHQ & रक्षा मंत्रालय द्वारा पहले बयान को मंजूरी नहीं दी गई थी?”

वहीं कांग्रेस सांसद और लोकसभा नेता प्रतिपक्ष अधीर रंजन चौधरी ने कहा, “आज बड़ी चिंता की बात है कि चीनी फौजियों ने लद्दाख में हमारी फौजियों पर हमला बोला. हिंदुस्तान के प्रधानमंत्री से दरख्वास्त है कि कि हमको बदला चाहिए. हमारे फौज पर जो हमला हुआ है इसका बदला चाहिए ताकि चीनी और उनकी फौज दोबारा ऐसा हम पर हमला करने की हिम्मत ना करें. हम बदला चाहते हैं और कुछ नहीं. हमारी फौजियों की हत्या की है, हमको बदला चाहिए.”

“कर्नल समेत हमारी सेना के जवान बेईमान चीनी आक्रमण का शिकार हुए हैं.
@PMOIndia हमें प्रतिशोध, प्रतिशोध, प्रतिशोध की आशंका है! मैं उन बहादुर आत्माओं को अपनी श्रद्धांजलि अर्पित करता हूं जिन्होंने हमारी मातृभूमि के लिए अपनी जान दे दी.”

इसके अलावा कांग्रेस नेता और पूर्व मंत्री (मध्य प्रदेश) पीसी शर्मा ने ट्वीट करते हुए लिखा, “गलवान घाटी में चीनी हमले में भारतीय सेना कर्नल सहित 3 जवान शहीद जवानो की शहादत को नमन. 1967 में नाथू ला में खदेड़ दिए जाने के बाद चीन ने ऐसा दुस्साहस पहली बार किया है. आख़िर कब तक हम अपने देश के बेटों को खोते रहेंगे.”

साथ ही कांग्रेस प्रवक्ता सुप्रिया श्रीनाते ने लिखा, “सेना का बयान, कल रात को गलवान घाटी में चीन के साथ भिड़ंत में 3 भारतीय सैनिक शहीद हुए हैं”. दुखद, चिंताजनक. 1975 के बाद LAC पर लड़ाई के दौरान भारतीय सैनिकों के शहीद होने का पहला मामला. सरकार यह बताए कैसे चीन गलवान घाटी तक पहुंच गया जो कि 1962 से भारतीय की भूमि का हिस्सा थी?”

कांग्रेस के अलावा यूपी के पूर्व सीएम अखिलेश यादव ने कहा, “गलवान वैली, लद्दाख से चीनी मुठभेड़ में हमारे कमांडिग ऑफ़िसर और दो सैनिकों की शहादत का समाचार मिला है. भावपूर्ण नमन. सरकार से इन हालातों में भारत-चीन सीमा पर वास्तविक स्थिति के स्पष्टीकरण की अपेक्षा है.”

साथ ही रक्षामंत्री राजनाथ सिंह प्रधानमंत्री मोदी से वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए जुड़कर उन्हें घटना की सारी जानकारी दे दी हैं. इसके बाद रक्षा मंत्री मुख्यमंत्रीयों के साथ भी बातचीत करेंगे.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *