सस्ती फीस के मुद्दे पर IIMC के छात्र एक बार फिर से भूख हड़ताल पर

छात्र और शिक्षक की माँगो को अनसुनी करना हमारे देश में कोई नई बात नहीं है। IIMC के छात्र सस्ती शिक्षा के लिए पहले भी भूख़ हड़ताल कर चुके हैं। पर इसके बावजूद फीस में बढ़ोतरी नहीं रुकी। कॉलेज ने अचानक से 10 फरवरी को फीस जमा करवाने को लेकर एक सर्कुलर जारी कर दिया है। इस पर छात्रों ने एडमिन से 48 घंटों के अंदर जवाब माँगा है पर अभी तक कोई जवाब नहीं आया है।

आईआईएमसी के छात्र हामिद का कहना है कि संस्थान प्रशासन ने हमारी जायज मांग और कार्यकारिणी समिति के निर्देश को न मानकर हमें धोखा दिया है। हम अपने साथ हो रहे अत्याचार को कत्तई बर्दाश्त नहीं कर सकते।

कॉलेज लगातार छात्रों की मांग को नज़रअंदाज़ कर रहा है. इसी बीच फीस जमा कराने को लेकर जो सर्कुलर जारी किया गया, छात्रों ने उसे टालने की मांग की है।

संस्थान के अंदर अफोर्डेबल फी स्ट्रक्चर बनाये जाने के लिए छात्र पहले भी धरना-प्रदर्शन कर चुके हैं। तब दिसंबर 2019 में फीस सर्कुलर को रुकवाया गया था और IIMC प्रशासन कार्यकारिणी समिति ने तत्काल मीटिंग बुलाई थी। इसके बाद 13 जनवरी को एक सर्कुलर जारी कर बताया गया की कार्यकारिणी समिति एक कमेटी का गठन करेगी। वह कमिटी 2 मार्च तक छात्रों के फीस से जुड़े मामलों की समीक्षा करके अपनी रिपोर्ट एक सम्बंधित अधिकारी को सौंपेगी।

यहाँ तक छात्रों को अफोर्डेबल फीस की पूरी उम्मीद रही.

तब अचानक 10 फरवरी को IIMC ने फीस जमा करने के लिए एक सर्कुलर जारी कर दिया। छात्र प्रशासन ने 48 घंटो के अंदर कॉलेज एडमिनिस्ट्रेशन से अपना पक्ष रखने को कहा है। परन्तु अभी तक कॉलेज प्रशासन की तरफ से कोई जवाब नहीं आया है।

छात्रों का कहना है की संस्थान हमारे साथ चल कर रहा है और सभी नियम कानून को ताक पर रख कर मनमाने तौर पर धन उगाही करना चाहता है। कॉलेज एडमिनिस्ट्रेशन के इस रवैये से छात्रों में नाराज़गी है और अपनी मांगो को लेकर भूख हड़ताल पर बैठना का फैसला किया है।

पब्लिक व्यू डेस्क

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *