icc

कोरोना महामारी की वजह से ICC ने बदले क्रिकेट के नियम

कोरोना वायरस के लगातार बढ़ते खतरे के कारण खेल जगत भी काफी परेशान है. इसके कारण क्रिकेट मैच और दूसरे टूर्नामेंट भी बंद है. जिसके कारण खेल जगत पर भी इसका काफी प्रभाव पड़ा है. कोरोना वायरस की महामारी को देखते हुए आईसीसी( इंटरनेशल क्रिकेट काउंसिल) को क्रिकेट के नियमों में बदलाव करना पड़ा है. आईसीसी ने क्रिकेट के जिन नियमों का बदलाव किया है वो नियम क्रिकेट के दुबारा शूरू होने पर लागू होंगे. नियमों के बदलाव के तहत अगर कोई खिलाड़ी कोरोना संक्रमित है या उसमें कोरोना के लक्षण पाए जाते है तो ऐसे में उसकी जगह कोई ओर खिलाड़ी सब्सीट्यूट के रूप में खेल सकेगा.

मैच के दौरान सलाइवा के प्रयोग पर बैन

आईसीसी ने मैच के दौरान गेंद चमकाने के लिए सलाइवा के प्रयोग को पूरी तरह बैन कर दिया है. सलाइवा के प्रयोग से क्योकि कोरोना का खतरा बढ़ सकता है ऐसे में खिलाड़ी अपने सलाइवा का प्रयोग नहीं कर पाएंगे. हालांकि आईसीसी ने कहा क्योकि पसीनें के प्रयोग से कोरोना वायरस का कोई खतरा नहीं होता तो ऐसे में खिलाड़ी गेंद को चमकाने के लिए पसीनें का प्रयाग कर सकेंगे. मैच को दौरान अगर कोई खिलाड़ी सलाइवा का प्रयोग करता पाया जाता है तो उसे पहली बार में चेतवानी दी जाएगी. अगर फिर भी खिलाड़ी इसे बार-बार करता है तो टीम को चेतावनी दी जाएगी. साथ ही इस गलती को दोहराने पर टीम को 5 रन की पेनल्टी भी लगाई जाएगी. इसके अलावा जब भी कोई खिलाड़ी गेंद पर सलाइवा लगाता है तो अंपायर को गेंद साफ करनी पड़ेगी.

टी20 और वनडे में मैच में नहीं लागू होंगे नियम

किसी खिलाड़ी के कोरोना संक्रमित होने या उसमें लक्षण पाए जाने पर सब्सीट्यूट खिलाड़ी के खेलने की इजाजत सिर्फ टेस्ट मैच में दी गई है. आईसीसी ने कहा कि ये नियम टी20 या वनडे मैच में लागू नहीं होंगे. वहीं, सलाइवा के प्रयोग को पूरी तरह से सभी मैचों में बैन कर दिया गया है.

मैच में तटस्थ अंपायर नहीं होंगे

आईसीसी के बदले नियमों के अनुसार मैचों में तटस्थ अंपयर नहीं होंगे. उन्हें अस्थाई तौर पर हटा दिया जाएगा. आईसीसी में एलीट पैनल में स्थानीय अंपायर को नियुक्त करेगी. बता दें कि, ऐसा करीब दो दशक के बाद होगा जब घरेलू अंपायर मैच में रहेंगे. स्थानीय अंपायर के कम अनुभव को देखते हुए उन्हें दोनों टीमों को एक-एक अतिरिक्त डीआरएस मिलेगा. आईसीसी क्रिकेट संचालन टीम स्थानीय मैच रेफरियों की मदद करेगी. एलीट पैनल का जो अंपायर होगा वो मैच रैफरी के तौर पर वीडियो लिंक से सुनवाई कर सकेगा.

अनिल कुबंले की अध्यक्षता वाली क्रिकेट समिति ने ये सुझाव दिए थे ताकि क्रिकेट बहाल होने पर कोरोना महामारी के चलते खिलाड़ियों और मैच के अधिकारियों की सुरक्षा का प्रबंध किया जा सकें.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *