नई दिल्ली: दिल्ली की अदालत ने दुबई के व्यापारी राजीव सक्सेना को 360 करोड़ रुपए के अगस्ता वेस्टलैंट धनशोधन मामले में बयान दर्ज करने का आदेश दिया है. राजीव सक्सेना अगस्तावेस्टलैंड वीवीआईपी हेलीकॉप्टर सौदा मामले में सरकारी गवाह बनना चाहते है. विशेष न्यायाधीश अरविंद कुमार ने मुख्य महादंडाधिकारी को दो मार्च को सक्सेना का बयान दर्ज करने को कहा है.

प्रवर्तन निदेशालय ने अदालत से कहा कि सक्सेना के बयानों को देखने के बाद उसकी याचिका पर जवाब देगा. इस बीच सक्सेना ने अदालत से कहा कि वह किसी दबाव में नहीं है और स्वेच्छा से सरकारी गवाह बनना चाहता है.

सक्सेना ने अपने आवेदन में अदालत से कहा है कि उन्होंने जांच में सहयोग किया है और उनके पास जो भी जानकारी थी, उसका उन्होंने खुलासा किया है. उन्होंने कहा कि अगर उन्हें क्षमा किया गया तो वह मामले का पूरा खुलासा करेंगे.

सक्सेना को दिल्ली पटियाला कोर्ट ने जमानत दी गई थी. ईडी ने चिकित्सा आधार पर सक्सेना की जमानत का विरोध नहीं किया था.

संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) की सुरक्षा एजेंसियों ने सक्सेना को उनके दुबई आवास से 30 जनवरी को गिरफ्तार किया था और भारत को प्रत्यर्पित कर दिया था. सक्सेना को चिकित्सकीय के आधार पर जमानत दी गई. ईडी ने सक्सेना की जमानत आवेदन का विरोध नहीं किया.

ईडी के अनुसार, वकील गौतम खेतान के साथ मिली-भगत में सक्सेना ने कई राजनेताओं, नौकरशाहों और भारतीय वायुसेना के अधिकारियों को भुगतान करने के लिए धनशोधन के लिए दुनियाभर में एक कॉपोर्रेट स्ट्रक्चर प्रदान किया.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *