Anil Deshmukh, Palghar

पालघर मामले को सांप्रदायिक रंग देने की कोशिश, अनिल देशमुख ने किया इंकार, दो पुलिस वाले सस्पेंड

महाराष्ट्र के पालघर में दो साधुओं की हत्या के बाद राजनीतिक बयानबाज़ी तेज़ हो गयी है. सोशल मीडिया पर लगातार इस मामले को सांप्रदायिक रंग देने की कोशिश की जा रही है. लेकिन इन तमाम अफवाहों पर विराम लगाते हुए महाराष्ट्र के गृह मंत्री अनिल देशमुख ने आधी रात को ट्वीट कर कहा की इस हत्या में कोई भी धार्मिक मामला नहीं है. अनिल देशमुख ने ट्विटर पर लिखा ‘हमला करने वाले और जिनकी इस हमले में जान गयी है दोनों अलग धर्मिये नहीं हैं. बेवजह समाज में/ समाज माध्यमों द्वारा धार्मिक विवाद निर्माण करने वालों पर पुलिस को सख्त कार्रवाई के आदेश दिए गए हैं’.

रविवार को पालघर में भीड़ द्वारा दो साधुओं की पीट-पीटकर निर्मम हत्या कर दी गई थी. इसके बाद से ही बीजेपी महाराष्ट्र की उद्धव सरकार पर हमलावर है. महाराष्ट्र पुलिस के मुताबिक़ भी इस मामले में कोई धार्मिक एंगल नहीं है. ग्रामीणों ने चोर डाकू समझ कर दो साधुओं की हत्या कर दी. पालघर ज़िले में लॉकडाउन के दौरान चोर और डाकुओं की अफवाह फ़ैल गयी थी. जिसके बाद से ग्रामीण लगातार खुद ही पहरेदारी कर रहे थे.

साधुओं पर हमले से पहले भी वहां तीन पुलिस वालों और एक डॉक्टर पर हमला हुआ था. यह हमला घटनास्थल से तीस किलोमीटर दूर हुआ था. ग्रामीणों ने इन लोगों पर चाकुओं से हमला कर दिया था. जिसके बाद पुलिस ने इन लोगों को बचाया.

वहीं महाराष्ट्र के गृह मंत्री अनिल देशमुख ने जानकारी दी के इस हत्यकांड में शामिल 101 लोगों को पुलिस हिरासत में ले लिया गया है. इसके साथ ही उच्च स्तरीय जांच के आदेश भी दिए गए हैं. इस मामले में अभी तक महाराष्ट्र पुलिस के दो जवानों को सस्पेंड किया जा चूका है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *