Mount Everest

काठमांडू की घाटी से वर्षों बाद दिखा माउंट एवरेस्ट का अद्भुत नजारा

कोरोना संक्रमण के कारण हुए लॉकडाउन ने जहां एक तरफ लोगों का जीने का तरीका बदल दिया है. वहीं दूसरी तरफ प्रकृति भी हर दिन अपने अलग-अलग रूप दिखा रही है. हवा से प्रदूषण के गायब हो जाने से भारत के कई शहरों में हवा इतनी स्वच्छ हो चुकी है कि दूसरे शहर के बादल भी दिखाई देने लगे हैं. अब आप आसमान की तरफ एकटक देखते रहिए तो आंखे ठहर जाती है. साथ ही रात में शहरों में सितारें इस तरह चमकतें पहले कभी ना देखे होंगे आपने. अब नदियों को पानी फिर से पीनें लायक हो गया है. इसके अलावा हवा तो इतनी साफ हो चुकी है कि भारत के कई शहरों से आप दूर पहाड़ों को साफ देख पा रहे हो.

Mount Everest

ऐसा ही कुछ नजारा अब नेपाल की राजधानी काठमांडू घाटी से देखा गया है. जहां कई सालों बाद एक बार फिर माउंट एवरेस्ट के खूबसूरत पहाड़ घाटी से दिखाई देने लगे हैं. माउंट एवरेस्ट के खूबसूरत पहाड़ों की ये तस्वीर सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रही है. दरअसल इस अद्भूत नजारों को नेपाली टाइम्स के लिए फोटोग्राफर अभुशन गौतम द्वारा क्लिक किया गया है. इस हफ्ते की शुरुआत से ही काठमांडू घाटी के चोबार से शाम ढलते-ढलते लुभावनी तस्वीरें सोशल मीडिया साइट्स पर वायरल हो गईं.

माउंट एवरेस्ट की इन तस्वीरों को नेपाली टाइम्स ने ट्वीट करते हुए लिखा, “कोरोना वायरस के कारण जारी लॉकडाउन ने नेपाल और उत्तरी भारत की हवा को साफ कर दिया है. कई सालों बाद हवा इतनी साफ हो गई है कि काठमांडू घाटी से एक बार फिर माउंट एवरेस्ट को देखा जा सकता है. चाहे वो 200 किलोमीटर दूर ही क्यों न हों.”

बता दें कि पिछले दिनों भारत के कई जगहों से हिमालय के दर्शन हुए. सहारनपुर, जालंधर और चंडीगढ़ जैसे शहरों से इस तरह के नजारें देखे गए. इसके अलावा गंगा, यमुना समेत कई नदियों का पानी साफ हुआ है. जिसे कहा जा सकता है कि प्रकृति पर लॉकडाउन का सकारात्मक असर देखने को मिल रहा है.

इन तस्वीरों को सोशल मीडिया पर खूब पसंद किया जा रहा है. साथ ही कई सोशल मीडिया यूजर्स इन तस्वीरों को शेयर करते हुए ये भी लिखा कि, उन्हें यकीन नहीं हो रहा है कि काठमांडू से माउंड एवरेस्ट को देखा जा सकता है. वहीं, कुछ यूजर्स का कहना है कि अगर हम प्रकृति के साथ छेड़छाड़ न करें तो बहुत खूबसूरत है.

बहरहाल ये बात सहीं है कि कोरोनावायरस की वजह से बेशक मानव जाति पर खतरा मंडरा रहा है, और कोविड 19’, इंसानों की जिंदगी और वातावरण दोनों को बदल रहा है. जिससे हमें समझना होगा कि इंसान सदियों से प्रकृति के साथ छेड़छाड़ करता आया है जिसकी वजह से प्रकृति की कई बेहद खूबसूरत चीजें आज हमें नहीं दिखती हैं. साथ ही ये हमारे लिए एक सीख भी है कि हमें प्रकृति से जितनी जरूरत हो उतना ही लेना चाहिए.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *